अगर इस जहाँ में कोई गुरु ही ना होता

कोई काम दुनिया में शुरू ही न होता
अगर इस जहाँ में कोई गुरु ही ना होता
कोई काम दुनिया में शुरू ही न होता

गीता रामायण में समजा दिया है
सभी धर्मो का इस में लिखा है
गुरु बह्मा विष्णु गुरु शिव होता
अगर इस जहाँ में कोई गुरु ही ना होता

प्रभु राम ने गुरु की महिमा को जाना
तभी विश्वामित्र और वशिष्ठ जी को माना
माने जो गुरु को उसे दुःख न होता
अगर इस जहाँ में कोई गुरु ही ना होता

सीता को गुरु मिले सती अनुसइयां,
दियां ज्ञान भगती का कुटियाँ में मैया
पति की करो सेवा तो बड़ा सुख होता
अगर इस जहाँ में कोई गुरु ही ना होता

Koi Kam Duniya Mein Shuru Hi Na Hota
Agar Is Jahan Mein Koi Guru Hi Na Hota
Agar Is Jahan Mein Koi Guru Hi Na Hota

Gita Ramayan Ne Samjha Diya Hai
Sabhi Sar Dharmo Ka Ismen Likha Hai
Guru Brahma Vishnu Guru Shiv Hota
Guru Brahma Vishnu Guru Shiv Hota
Agar Is Jahan Mein Koi Guru Hi Na Hota

Prabhu Ram Ne Guru Ki Mahima Ko Jana
Tabhi Vishvamitr Aur Vashishthaji Ko Mana
Mane Jo Guru Ko Use Duhkh Na Hota
Mane Jo Guru Ko Use Duhkh Na Hota
Agar Is Jahan Mein
Koi Guru Hi Na Hota

Sita Ko Guru Mili Sati Anusuiya
Diya Gyan Bhakti Ka Kutiya Mein Maiya
Pati Ki Karo Seva To Bada Sukh Hota
Pati Ki Karo Seva To Bada Sukh Hota
Agar Is Jahan Mein
Koi Guru Hi Na Hota

Koi Kam Duniya Mein
Shuru Hi Na Hota
Agar Is Jahan Mein
Koi Guru Hi Na Hota
Agar Is Jahan Mein
Koi Guru Hi Na Hota

Leave a Reply