अनेकता में एकता विशेषता हमारी है

अनेकता में एकता विशेषता हमारी है,
जन्म भूमि राम की ध्रुव की तपस थली,
शक्ति के प्रतीक में साहसी महाबली,
नर नारायणो की ये धरती प्यारी है ,
अनेकता में एकता विशेषता हमारी है

कुंड कला देव भी कृष्ण भी यही हुये,
त्याग श्री भीविशियो हरीश चन यही हुये,
कर्म कर्म पर त्याग की गाथा ही न्यारी है,
अनेकता में एकता विशेषता हमारी है,

दुनिया में व्याक्त है संस्कृति की अजेयता,
मात्र भूमि धन्य है आशा ज्ञान श्रेष्ठा,
भोग वादी संस्कृति सत्य शिव से हारी हैं,
वेश भूषा भीं है भीं खान पान है,
अनेकता में एकता विशेषता हमारी है

Anekta Mein Ekata Visheshta Hamari Hai
Janma Bhoomi Ram Ki Dhruv Ki Tapas Sthali
Shakti Ke Pratik Mein Sahasi Mahabali

Anekta Mein Ekata Visheshta Hamari Hai
Anekta Mein Ekata Visheshta Hamari Hai

Janma Bhoomi Ram Ki Dhruv Ki Tapas Sthali
Shakti Ke Pratik Mein Sahasi Mahabali

Nar Narayano Ki Ye Dharti Pyari Hai
Anekta Mein Ekata Visheshta Hamari Hai

Kund Kala Dev Bhi Krishna Bhi Yahi Huye
Tyag Shri Bhivishiyo Harish Chaan Yahi Huye

Karm Karm Par Tyag Ki Gatha Hi Nyari Hai
Anekta Mein Ekata Visheshta Hamari Hai

Duniya Mein Vyakt Hai Sanskrti Ki Ajeyata
Matra Bhoomi Dhany Hai Yash Gyan Shreshtha
Bhog Vadi Sanskrti Saty Shiv Se Hari Hain

Bhesh Bhoosha Bhin Hai Bhin Khan Pan Hai
Anekta Mein Ekata Visheshta Hamari Hai

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply