आन बसों नंदलाल मेरे सूने मंदिर में

आन बसों नंदलाल मेरे सूने मंदिर में
छाया जिस में, घोर अँधेरा
तुम आओ तो, होवे उजियारा
तुम बिन, है सुनसान, मेरे सुने मंदिर में,
आन बसों नंदलाल मेरे सूने मंदिर में ।।

घण्टे और, घड़ियाल नहीं है
सामग्री का, थाल नहीं है
मोह माया, का है जाल, मेरे सुने मंदिर में,,,
आन बसों नंदलाल मेरे सूने मंदिर में ।।

मेरा मन, दर्वेश नहीं है
बगुले जैसा, भेस नहीं है
प्रेम का है, यह हाल, मेरे सुने मंदिर में,
आन बसों नंदलाल मेरे सूने मंदिर में ।।

कान्हा मेरे, मंदिर आना
मेरे हाथों, भोग लगाना
आना, हो के दयाल, मेरे सुने मंदिर में,
आन बसों नंदलाल मेरे सूने मंदिर में ।।

Aan Baso Nandlal Mere Soone Mandir Mein
Chhaya Jisme Ghor Andhera
Tum Aao To Hove Ujiyara
Tum Bin Hai Sunsaan
Mere Soone Mandir Mein

Ghante Aur Ghadiyaal Nahi Hai
Saamagri Ka Thaal Nahi Hai
Moh Maya Ka Hai Jaal
Mere Soone Mandir Mein
Aan Baso Nandlal Mere Soone Mandir Mein

Mera Man Darvesh Nahi Hai Hai
Bagule Jaisa Bhesh Nahi Hai
Prem Ka Hai Ye Haal Mere Soone Mandir Mein
Aan Baso Nandlal Mere Soone Mandir Mein

Kanha Mere Mandir Aana Mere Hatho Bhog Lagana
Aana Hoke Dayal Mere Soone Mandir Mein
Aan Baso Nandlal Mere Soone Mandir Mein

Leave a Reply