आया 15 अगस्त दिन ये पावन माँ भारती का वंदन है

तेरी आरती उतारू रूप तेरा निहारु,
तेरे चरणों की धूल मेरा चन्दन है,
आया 15 अगस्त दिन ये पावन माँ भारती का वंदन है,

मस्तक शोभा हिमलाये सवारे सुबह सवेरे पाँव सागर पखारे,
गंगा यमुना बहे हरी धरती रहे तीनो ऋतुएँ यहाँ की धड़कन है,
आया 15 अगस्त दिन ये पावन माँ भारती का वंदन है,

दुनिया में छुंनये दशम जो लाया जिस ने जहां को अहिंसा सिखाया,
बोली भाषा अनेक फिर भी हम सब है एक,
एक दूजो में रिश्ते का वंदन है,
आया 15 अगस्त दिन ये पावन माँ भारती का वंदन है,

इस देश हिट लुटावे जवानी देविंदर गाये उन्ही की काहनी,
भगत विषमिल सुभाष चन्दर सेखर आजाद देश भगतो के ये गीत अर्पण है,
आया 15 अगस्त दिन ये पावन माँ भारती का वंदन है,

Teri Aarti Utaru Roop Tera Niharu Jai Bharat Maa
Tere Charno Ki Dhool Mera Chandan Hai Jai Bharat Maa
Aaya 15 August Din Ye Pawan Maa Bharti Ka Vandan Hai

Mastak Shobha Himalay Savaare
Subah Savere Paav Sagar Pakhare

Gagna Jamuna Bahe Hari Dharti Rahe
Teeno Rituye Yaha Ki Dhadkan Hai
Aaya 15 August Din Ye Pawan Maa Bharti Ka Vandan Hai
Vande Mataram Vande Mataram Vande Mataram

Duniya Mein Shoonya Dashamlav Jo Laya
Jisne Jaha Ko Ahinsa Sikhaya
Ki Boli Bhasha Anek Fir Bhi Hum Sab Hai Ek
Ek Dooje Mein Rishto Ka Bandhan Hai
Aaya 15 August Din Ye Pawan Maa Bharti Ka Vandan Hai

Iss Desh Hit Jo Lutaye Jawani
Kuldeep Devendra Gaye Unki Kahani

Bhagat Bishmil Subhash Chandra Shekar Aazad
Desh Bhkato Ko Ye Geet Arpan Hai
Aaya 15 August Din Ye Pawan Maa Bharti Ka Vandan Hai

Teri Aarti Utaru Roop Tera Niharu Jai Bharat Maa
Tere Charno Ki Dhool Mera Chandan Hai Jai Bharat Maa
Aaya 15 August Din Ye Pawan Maa Bharti Ka Vandan Hai

This Post Has 5 Comments

Leave a Reply