इक तमन्ना है जीवन की निधि वन रात बिताऊ

इक तमन्ना है जीवन की निधि वन रात बिताऊ
समाने श्याम होवे फिर चाहे मैं मर जाऊ,
चाहे मैं मर जाऊ चाहे मैं मर जाऊ,
समाने श्याम होवे फिर चाहे मैं मर जाऊ।।

निधि वन की सब लता पताये देख श्याम को नित हर्षाये,
मुझपर मोहन रीज गए तो मैं भी नित हरषाऊ,
समाने श्याम होवे फिर चाहे मैं मर जाऊ।।

रंग मेहल की छटा सुहाए रास रसीली सुध बिसराए
युगल छवि हो समाने मेरे पलके न झ्प्काऊ,
समाने श्याम होवे फिर चाहे मैं मर जाऊ।।

रंग संवारा रूप सलोना चाहू निधिवन का इक कोना
केवल कोई प्यास रहे न एसी प्यास बुजाऊ
समाने श्याम होवे फिर चाहे मैं मर जाऊ।।

Ik Tamanna Hai Jeevan Ki Nidhi Van Raat Bitau
Samane Shyam Hove Phir Chahe Main Mar Jau
Chahe Main Mar Jau Chahe Main Mar Jau
Samane Shyam Hove Phir Chahe Main Mar Jau

Nidhi Van Ki Sab Lata Pataye
Dekh Shyam Ko Nit Harashae
Mujhpar Mohan Reejh Gae To Main Bhi Nit Harshau
Samane Shyam Hove Phir Chahe Main Mar Jau

Rang Mehal Ki Chhata Suhaye
Ras Rasili Sudh Bisarae
Yugal Chhavi Ho Samane Mere Palake Na Jhpkau
Samane Shyam Hove Phir Chahe Main Mar Jau

Rang Sanvara Roop Salona
Chahu Nidhivan Ka Ik Kona
Keval Koi Pyas Rahe Na Esi Pyas Bujau
Samane Shyam Hove Phir Chahe Main Mar Jau

Leave a Reply