इनके मन में है राम बसे इनको तो किसी की खबर नहीं

दुनिया में देव हजारो है
बजरंग बलि का क्या कहना
इनकी शक्ति का क्या कहना
इनकी भक्ति का क्या कहना
जो सिर्फ अपने भगवन को दिल में ही नहीं
अपने रोम रोम में बसते है।।

इनके मन में है राम बसे,
इनको तो किसी की खबर नहीं।।

इनके मन में है राम बसे,
इनको तो किसी की खबर नहीं।।

श्री राम की पूजा करते है,
श्री राम की सेवा करते है हो,

श्री राम की पूजा करते है,
श्री राम की सेवा करते है
श्री राम की श्री राम की
श्री राम की भक्ति में डूबे,
इन पर तो किसी का असर नहीं,
इनके मन में हैं राम बसे,
इनको तो किसी की खबर नहीं।।

श्री राम की धुन में रहते है,
श्री राम की बातें करते है हो,

श्री राम की धुन में रहते है,
श्री राम की बातें करते है
श्री राम प्रभु के सिवा जग में,
इनको आता कुछ नज़र नहीं,
इनके मन में हैं राम बसे,
इनको तो किसी की खबर नहीं।।

श्री राम की करके ये भक्ति,
पाई है इसने ये शक्ति हो,

श्री राम की करके ये भक्ति,
पाई है इसने ये शक्ति,
जब तक ना काम प्रभु का हो,
तब तक तो इनको सबर नहीं,
इनके मन में हैं राम बसे,
इनको तो किसी की खबर नहीं।।

जहाँ जहाँ जाए राम प्रभु,
वहां वहां पे जाए हनुमाना हो,

जहाँ जहाँ जाए राम प्रभु,
वहां वहां पे जाए हनुमाना,
कहे “श्याम” राम का सेवक है,
इनको तो किसी की फिकर नहीं,
इनके मन में हैं राम बसे,
इनको तो किसी की खबर नहीं।।

इनके मन में है राम बसे,
इनको तो किसी की खबर नहीं।।

Leave a Reply