इस जग में मेरा कोई नही जाऊं तो बोलो जाऊं किधर

इस जग में मेरा कोई नही
जाऊं तो बोलो जाऊं किधर ।।

बस एक सहारा तेरा है
पाऊं तो तुझे मैं पाऊं किधर ।।

इस जग में मेरा कोई नही
जाऊं तो बोलो जाऊं किधर ।।

मंदिर में तेरी देखी मूरत
लगती है लुभानी ये सूरत
मन में जोभी फरियादे है
बताऊँ तो बताऊँ किधर ।।

इस जग में मेरा कोई नही
जाऊं तो बोलो जाऊं किधर ।।

तीरथ में गया और स्नान किया
तेरी पूजा की चरनाम्रित पिया
फिर भी इस मन में उलझन
इस उलझन को सुलझाऊँ किधर।।

इस जग में मेरा कोई नही
जाऊं तो बोलो जाऊं किधर ।।

तू तो घट घट का वासी है
तू अजर अमर अविनसी है
ये अँखियाँ दर्शन प्यासी है
पर नज़र कहो तो घुमाऊं किधर ।।

बस एक सहारा तेरा है
पाऊं तो तुझे मैं पाऊं किधर ।।

इस जग में मेरा कोई नही
जाऊं तो बोलो जाऊं किधर
जाऊं तो बोलो जाऊं किधर ।।

Iss Jagme Mein Mera Koi Nahi
Jau To Bolo Jau Kidhar

Bus Ek Sahara Tera Hai
Pau To Tujhe Main Pau Kidhar

Iss Jagme Mein Mera Koi Nahi
Jau To Bolo Jau Kidhar

Mandir Mein Teri Dekhi Moorat
Lagti Hai Lubhani Ye Surat
Mann Mein Jobhi Fariyade Hai
Batlau To Batlau Kidhar

Iss Jagme Mein Mera Koi Nahi
Jau To Bolo Jau Kidhar

Teerathan Mein Gaya Aur Snan Kiya
Teri Pooja Ki Charnamrat Piya
Fir Bhi Iss Mann Mein Uljhan
Iss Uljhan Ko Suljhau Kidhar

Iss Jagme Mein Mera Koi Nahi
Jau To Bolo Jau Kidhar

Tooto Ghat Ghat Ka Wasi Hai
Tu Ajar Amar Avinasi Hai
Ye Ankhiyan Darshan Pyasi Hai
Par Nazar Kaho To Ghumau Kidhar

Bus Ek Sahara Tera Hai
Pau To Tujhe Main Pau Kidhar

Iss Jagme Mein Mera Koi Nahi
Jau To Bolo Jau Kidhar
Jau To Bolo Jau Kidhar

This Post Has One Comment

Leave a Reply