उतारे आरती जय माँ भारती

दिव्य धरा यह भारती, छलक रहा आनंद,
नव सौंदर्य संवारती, शीतल मंद सुगंध,
उतारे आरती जय माँ भारती,
उतारे आरती जय माँ भारती

युग युग से अनगिन धाराएँ, सेवा में तेरी,
गंगा यमुना सिन्धु नर्मदा, कृष्णा कावेरी,
जल जीवन से इसकी माटी, उपजाती है अन्न,
नव सौंदर्य संवारती, शीतल मंद सुगंध,
उतारे आरती जय माँ भारती,
उतारे आरती जय माँ भारती

दिव्य धरा यह भारती, छलक रहा आनंद,
नव सौंदर्य संवारती, शीतल मंद सुगंध,
उतारे आरती जय माँ भारती,
उतारे आरती जय माँ भारती

पावन भावन इसके आंगन, पंछी चहक रहे,
अंग अंग में रंग सुमन के, खिलते महक रहे,
सदा बहाती मीठे फल, अमृत रस धार अखंड,
नव सौंदर्य संवारती, शीतल मंद सुगंध,
उतारे आरती जय माँ भारती,
उतारे आरती जय माँ भारती

गगन चूमती पर्वत माला, वैभव का आलय,
सागर जिनके चरण पखारे, गूंजे जय जय जय,
सारा जग आलोकीत होता, पातव तेज प्रचंड,
नव सौंदर्य संवारती, शीतल मंद सुगंध,
उतारे आरती जय माँ भारती,
उतारे आरती जय माँ भारती

प्रगटाती है मंगलकारी, तत्या सुखद किरण,
ज्ञान भक्ति और कर्म त्रिवेणी, स्पंदित है कण कण,
परहित मे जीवन जीने मे, रहती सदा प्रसन्न,
नव सौंदर्य संवारती, शीतल मंद सुगंध,
उतारे आरती जय माँ भारती,
उतारे आरती जय माँ भारती

यही भूमि है जिसकी गोदी, प्रगटे पुरूषोत्तम,
यही दिया था योगी राज नेे, कर्म योग अनुपम,
सत्य निष्ठ यह पुण्य भूमि है, सभी विडारे द्वंद्व,
नव सौंदर्य संवारती, शीतल मंद सुगंध,
उतारे आरती जय माँ भारती,
उतारे आरती जय माँ भारती

दिव्य धरा यह भारती, छलक रहा आनंद,
नव सौंदर्य संवारती, शीतल मंद सुगंध,
उतारे आरती जय माँ भारती,
उतारे आरती जय माँ भारती

Singer – Prakash Mali

Yug Yug Se Angin Dharaye
Seva Mein Teri
Ganga Yamuna Sindhu
Narmda Krishna Kaveri

Jal Jeevan Se Iski Maati
Upjaati Hai Anna
Nav Saundarya Savarti
Sheetal Mand Sugandh
Utaare Aarti Jay Maa Bharti

Utaare Aarti Jai Maa Bharti
Divya Dhara Yeh Bharti
Chhalak Raha Aanand
Nav Saundarya Savarti
Sheetal Mand Pawan
Utaare Aarti Jai Maa Bharti

Pawan Bhaawan Iske Aangan
Panchhi Chahak Rahe
Ang Ang Mein Rang Suman Ke
Khilte Mehak Rahe

Sada Bahaati Meethe Phal
Amrat Ras Dhaar Akhand
Nav Saundarya Savarti
Sheetal Mand Sugandh
Utaare Aarti Jai Maa Bharti

Gagan Choomati Parvat Maala
Vaibhav Ka Aalay
Sagar Jiske Charan Pakhare
Goonje Jai Jai Jai

Sara Jag Aalokit Hota
Tha Vo Tej Prachand
Nav Saundarya Sawarti
Sheetal Mand Sugandh
Utaare Aarti Jai Maa Bharti

This Post Has One Comment

  1. Pingback: कोई आए और देखे मेरे देश में – bhakti.lyrics-in-hindi.com

Leave a Reply