उलझ मत दिल बहारो में बहारो का भरोसा क्या

उलझ मत दिल बहारो में बहारो का भरोसा क्या,
सहारे छुट जाते है सहरो का बरोसा क्या
उलझ मत दिल बहारो में बहारो का भरोसा क्या।।

सहारे टूट जाते है सहरो का बरोसा क्या
उलझ मत दिल बहारो में बहारो का भरोसा क्या।।

तमनाये जो तेरी है फुहारे है वो सवान की,
फुहारे है सुक जाती है फुकारो का भरोसा क्या
उलझ मत दिल बहारो में बहारो का भरोसा क्या।।

दिलासे यो यहाँ के सभी रंगिन नजारे है,
नजारे रूसे जाते है नजारों का भरोसा क्या
उलझ मत दिल बहारो में बहारो का भरोसा क्या।।

इन्ही रंगीन गुबारों पर आरे दिल क्यों फ़िदा होता,
गुबारे फुट जाते है दुबारो का भरोसा क्या
उलझ मत दिल बहारो में बहारो का भरोसा क्या।।

तू हरी का नाम लेकर के किनारों से किनारा कर,
किनारे कूट जाते है किनारों का भरोसा क्या
उलझ मत दिल बहारो में बहारो का भरोसा क्या।।

SingerShyam Sundar Thakurji

Ulajh Mat Dil Baharo Mein
Baharo Ka Bharosa Kya
Sahare Toot Jaate Hai
Saharo Ka bharosa Kya

Tamannaye Jo Teri Hai
Fuhaare Hai Vo Sawan Ki
Fuhaare Sookh Jaati Hai
Fuhaaro Ka Bharosa Kya

Ulajh Mat Dil Baharo Mein
Baharo Ka Bharosa Kya
Sahare Toot Jaate Hai
Saharo Ka bharosa Kya

Tu Apni Aakalmandi Par
Vicharo Par Na Itrana
Hai Leharo Ki Tarah Chanchal
Vicharo Ka Bharosa Kya

Ulajh Mat Dil Baharo Mein
Baharo Ka Bharosa Kya
Sahare Toot Jaate Hai
Saharo Ka Bharosa Kya

Param Prabhu Ki Sharan Lekar
Vicharo Se Sajag Rehna
Kaha Kab Man Bigad Jaaye
Vicharo Ka Bharosa Kya

Ulajh Mat Dil Baharo Mein
Baharo Ka Bharosa Kya
Sahare Toot Jaate Hai
Saharo Ka bharosa Kya

Agar Vishwash Karna Hai
To Kar Duniya Ke Malik Ka
Ghane Kanjoos Aur Lobhiyo
Aur Makkaro Ka Bharosa Kya

Ulajh Mat Dil Baharo Mein
Baharo Ka Bharosa Kya
Sahare Toot Jaate Hai
Saharo Ka bharosa Kya

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply