उस देश को दुनिया में हिन्दुस्तान कहते है

हम हार मान ने वाले इंसान नहीं है,
जो पीठ दिखा कर भागे वो बेजान नहीं है,
सुर वीरो की भूमि हम जिस धरा पे रहते है,
उस देश को दुनिया में हिन्दुस्तान कहते है,

तेरी मिटटी में मिल जावा फूल बन के मैं खिल जावा,
बस इतनी है मेरी आरजू,

बड़े बड़े संकट आये पर हम कभी न गबराये,
मजबूती के साथ लड़े सदा विजय होकर आये,
जाहा हसी ख़ुशी से मिल दुःख तकलीफे सेह्ते है,
उस देश को दुनिया में हिन्दुस्तान कहते है,

याहा त्याग तपस्या भाव सभी में कुर्बानी है कदम कदम
ना इक जन्म की बात करे प्यारे निभाते जन्म जन्म,
याहा बहुत बड़ा दिल रखते प्यार के दरिया बेह्ते है
उस देश को दुनिया में हिन्दुस्तान कहते है,

कवि सिंह की बोली नहीं ये देश प्रेम की गोली,
मारु और मर जाऊ देश पे न समजो सूरत भोली है,
देते साथ हम बिना बात न किसी से फेहते है,
उस देश को दुनिया में हिन्दुस्तान कहते है,

#Singer – Kavi Singh

Ham Haar Maan Ne Wale Insan Nahin Hai
Jo Pith Dikha Kar Bhage Vo Bejan Nahin Hai
Sur Veero Ki Bhumi Ham Jis Dhara Pe Rahate Hai
Us Desh Ko Duniya Mein Hindustan Kehte Hai

Teri Mitati Mein Mil Java
Gul Ban Ke Main Khil Java
Bas Itani Hai Meri Aarju

Bade Bade Sankat Aaye Par Ham Kabhi Na Gabaraye
Majabuti Ke Saath Lade Sada Vijay Hokar Aaye
Jaha Hasi Khushi Se Mil Duhkh Taklife Sehte Hai
Us Desh Ko Duniya Mein Hindustan Kehte Hai

Yaha Tyag Tapasya Bhav Sabhi Mein Kurbani Hai Kadam Kadam
Na Ik Janm Ki Bat Kare Pyare Nibhate Janm Janm
Yaha Bahut Bada Dil Rakhate Pyar Ke Dariya Behte Hai
Us Desh Ko Duniya Mein Hindustan Kehte Hai

Kavi Sinh Ki Boli Nahin Ye Desh Prem Ki Goli
Maru Aur Mar Jau Desh Pe Na Samajo Surat Bholi Hai
Dete Sath Ham Bina Bat Na Kisi Se Phehate Hai
Us Desh Ko Duniya Mein Hindustan Kehte Hai

This Post Has One Comment

Leave a Reply