ऐसे बजरंग बाला मात अंजनी का लाला

दोहा – लाली तेरे लाल की जित देखु तित लाल
लाली देखन मैं गया मैं भी हो गया लाल।।

लाल देह है और लाल है चोला मुखड़ा भोला भला
ऐसे बजरंग बाला मात अंजनी का लाला
शीश मुकुट है गदा हाथ में और गले में माला
ऐसे बजरंग बाला मात अंजनी का लाला
ऐसे बजरंग बाला मात अंजनी का लाला।।

बजरंगबली के डर से सब भूत भाग जाते हैं,
इनकी कृपा हो जाये सोये भाग्य जाग जाते है,
दूर करे सारा अँधियारा लाये नया सवेरा
ऐसे बजरंग बाला हो मात अंजनी का लाला।।

करके छलावा रावण ले गया था सीता जी को साथ रे
लाके खबरिया बने रामजी के प्यारे दास रे
सोच समझकर लंका पूरी को तहस नहस कर डाला,
ऐसे बजरंग बाला हो मात अंजनी का लाला।।

जब जब संकट में थे परम कृपालु रामजी
उसी राम नाम सहारे हनुमत संभाले कामजी
भक्त और भगवान का देखो बंधन खूब निराला
ऐसे बजरंग बाला हो मात अंजनी का लाला।।

लाल देह है और लाल है चोला मुखड़ा भोला भला
ऐसे बजरंग बाला मात अंजनी का लाला
शीश मुकुट है गदा हाथ में और गले में माला
ऐसे बजरंग बाला मात अंजनी का लाला
ऐसे बजरंग बाला मात अंजनी का लाला।।

Leave a Reply