ऐ गौरा माँ के लाल मैं तेरा हो गया

जबसे देखा तुम्हे जाने क्या हो गया
ऐ गौरा माँ के लाल मैं तेरा हो गया।।

तू दाता है तेरा पुजारी हूँ मैं
तेरे दर का एक भिखारी हूँ मैं
तेरी चौखट पे जा दिल मेरा खो गया।।

जब से बाबा मुझे तेरी भक्ति मिली
मेरे मुरझाए मन की है कलाइयाँ खिली
जो ना सोचा कभी वोही हो गया।।

तेरे दरबार की वा अजब शान है
जो भी देखे तुझे वोही कुर्बान है
तेरी भक्ति का मुझपे नशा छा गया।।

शर्मा जब तेरी झाँकी का दर्शन किया
तेरे चरनो मे तन मन ये अर्पण किया
एक दफ़ा तेरी नगरी में जो भी गया।।

जबसे देखा तुम्हे जाने क्या हो गया
ऐ गौरा माँ के लाल मैं तेरा हो गया।।

Jab Se Dekha Tumhe Jaane Kya Ho Gya
A Gaura Man Ke Lal Main Tera Ho Gaya

Tu Daata Hai Tera Pujari Hun Main
Tere Dar ka ek Bhikhari Hun Main
Teri chaukhat Pe Ja Dil Mera Kho Gaya

Jab Se Baba Mujhe Teri Bhakti Mili
Mere murjhaye Man Ki Hai Kalaiyan khili
Jo Na Socha kabhi Vohi Ho gya

Tere Darbar Ki wah Ajab Shan hai
Jo bhi Dekhe Tujhe Wohi Kurban hai
Teri Bhakti Ka Mujhpe Nasha Chha Gaya

Sharma jab teri Jhanki ka darshan Kiya
Tere Charano Me Tan Man ye Arpan Kiya
Ek dafaa Teri nagri mein jo bhi gaya

This Post Has One Comment

Leave a Reply