ओरे मोरे मन श्री राधिका रमण

ओरे मोरे मन श्री राधिका रमण
निस दिन गुण गान गाएं जा,
छीन छीन नेह बढाए जा,
पल पल प्रेम बढाए जा,
ओरे मोरे मन श्री राधिका रमन,
निशि दिन गुन गान गाये जा।।

वह जीवन क्या जीवन जिसमें,
जीवन धन से प्यार ना हो,
है वह प्यार प्यार क्या जिसमें,
पिय सुख में बलिहार ना हो,
श्यामा श्याम मिलन हित नित प्रति,
नैनन नीर बहाये जा,
मन गोविन्द गुन गाए जा,
ओरे मोरे मन श्री राधिका रमण
निस दिन गुण गान गाएं जा,
छीन छीन नेह बढाए जा,
पल पल प्रेम बढाए जा,
ओरे मोरे मन श्री राधिका रमन,
निशि दिन गुन गान गाये जा।।

पिय प्रानन प्यारी सुकुमारी,
भानुदुलारी जान रे ,
चाकर बनी नित करत,
चाकरी सुन्दर श्याम सुजान रे,
प्रेम “कृपालु” सुधा चाखन,
हित राधे राधे गाये जा।।

ओरे मोरे मन श्री राधिका रमण
निस दिन गुण गान गाएं जा,
छीन छीन नेह बढाए जा,
पल पल प्रेम बढाए जा,
ओरे मोरे मन श्री राधिका रमन,
निशि दिन गुन गान गाये जा।।

Leave a Reply