ओ बाला जी ओ मेरे मन में बस गया ओ तेरा मेहंदीपुर दरबार

ओ बाला जी ओ मेरे मन में बस गया ओ तेरा मेहंदीपुर दरबार,
ओ तेरा मेहंदीपुर दरबार ओ तेरा मेहंदीपुर दरबार
ओ बाला जी न धन दोलत मने चाहिए मने बस चाहिए से तेरा प्यार।।

तेरा लाल लंगोटा ल्याऊ बाला जी तेरी सवा मनी भी ल्याऊ
हो बाला जी मेरी नाव पड़ी मजधार तू बन जा पतवार मेरा।।

हो पलका ते बगड पुहारु ओ बाबा पल पल तन निहारु
हो बाला जी मने दर्शन दे इक वार खोल यो दया का द्वार तेरा।।

करदे मन की पूरी आस यो दी सी सिंह रहे बन के दास
ओह बाला जी तेरी सची है सरकार दीवाना से संसार तेरा।।

Leave a Reply