ओ शक्ति शालिये दया दृष्टि हम पे डालिये

ओ शक्ति शालिये दया दृष्टि हम पे डालिये
हम तेरी शरण में आये श्रद्धा के सुमन चढ़ाये
क्या और करे हम अर्पण शेरावालिये
ओ शक्ति शालिये दया दृष्टि हम पे डालिये।।

तू अन्तर्यामी तू तीन लोक की स्वामी
तू तीन लोक की स्वामी तू अंतर यामी
तू तीन लोक की स्वामी तू तीन लोक की स्वामी
दुनिया की ऊँची नीची राहो में कदम ना बहके
अपने भक्तो को माता सम्भालिये
ओ शक्ति शालिये दया दृष्टि हम पे डालिये।।

तू जीवन दाता ओ वैष्णो देवी माता
तू जीवन दाता ओ वैष्णो देवी माता
रक्षक है तेरी जैसी भक्तो को कैसी चिंता
आने वाली विपदा को टालिए
ओ शक्ति शालिये दया दृष्टि हम पे डालिये।।

ओ शक्ति शालिये दया दृष्टि हम पे डालिये
हम तेरी शरण में आये श्रद्धा के सुमन चढ़ाये
क्या और करे हम अर्पण शेरावालिये
ओ शक्ति शालिये दया दृष्टि हम पे डालिये।।

Leave a Reply