ओ हरी तेरो अजब नीरालो काम

ओ हरी तेरो अजब नीरालो काम,
अजब नीरालो काम,
शावरीया तेरो अजब नीरालो काम,
सुख में सिमरन कोई नहीं करता,
दुःख में रेट तमाम,
ओ हरी तेरो अजब नीरालो काम,
अजब नीरालो काम।।

माया धन की बांध पोटली,
करता गरभ गुमान,
आ माया अंत काम ना आवे,
नही जाणे अज्ञान,
ओ हरी तेरो अजब नीरालो काम,
अजब नीरालो काम।।

मालीक मेरा सब कुछ तेरा,
क्यो भुला इन्सान,
तेरा तुमसे पाकर के नर,
बण बेठा धनवान,
ओ हरी तेरो अजब नीरालो काम,
अजब नीरालो काम।।

नर तन चोला पाकर भुला,
रटयो नही भगवान्,
क्या करता क्या करदे मालीक,
नही जाणे अज्ञान,
ओ हरी तेरो अजब नीरालो काम,
अजब नीरालो काम।।

एक दिन माटी मे मील जावे,
हाड मास और चाम,
जुटी काया जुटी माया,
साचो है तेरो नाम,
ओ हरी तेरो अजब नीरालो काम,
अजब नीरालो काम।।

Leave a Reply