कन्हैया नहीं मेरा कोई भाई

कन्हैया ओ कन्हैया कन्हैया,
नहीं मेरा कोई भाई,
तू ही बन जा मेरा भैया,
कन्हैया कन्हैया ओ कन्हैया।।

बचपन से ही तुझे मानती आई आपने भैया,
जबसे माँ ने मुझे कहा तेरा भाई कृष्ण कन्हैया,
गाय चरैया बंसी बजैया जो है रास रचैया,
कन्हैया कन्हैया ओ कन्हैया।।

बात जोहती रही है तेरी जाने कितनी रातों,
आ राखी बंधवाने भैया इस बहना के हाथों,
भूखी प्यासी बैठी भैया लेने तेरी बलइयां,
कन्हैया कन्हैया ओ कन्हैया।।

कब से स्वप्न संजोया भैया एक दिन तू आएगा,
बंधवाकर मुझसे राखी माखन मिश्री खायेगा,
मैं भी अपनी राखी देखूं भैया की कलैया,
कन्हैया कन्हैया ओ कन्हैया।।

कलयुग में ना भाई कोई कान्हा तेरे जैसा,
लाज निभा सकता राखी की तू ही है एक ऐसा,
तू ही पार लगाने वाला मेरी जीवन नैया,
कन्हैया कन्हैया ओ कन्हैया।।

This Post Has One Comment

Leave a Reply