कर दो किरपा की कोर लाडली देख लो मेरी और

राधे राधे राधे राधे राधे राधे राधे राधे राधे
कर दो किरपा की कोर लाडली देख लो मेरी और
लाडली देख लो मेरी और लाडली देख लो मेरी और
कर दो किरपा की कोर लाडली देख लो मेरी और।।

जन्म जन्म से भटक रहा हु अब तो शरण लगा लो
जीवन नैया डूब न जाए इस को पार लगा दो,
कर दो किरपा की कोर लाडली देख लो मेरी और।।

तुम बिन राधे इस नैया को कौन किनारा देगा
तेरी किरपा न होगी तो कौन सहारा देगा,
राधे राधे राधे राधे राधे राधे राधे
कर दो किरपा की कोर लाडली देख लो मेरी और।।

तेरे दर को छोड़ के राधे किसके दर मैं जाऊ
इस दुनिया में कौन है सुनाता दिल की जिसे सुनाऊ,
बस मन में वसी इक चाह यही श्री राधे राधे पुकारा करू
हर प्रेम का जल दृग पात्र में मैं पद पंकज रोज पखारा करू
बिठला के उन्हें मन मन्दिर में कद पंकज रोज पखारा करू
यही अबिलाश किशोरी मेरी नित चरणों में जीवन गुजारा करू।।

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply