कहाँ कहाँ ढूंढूं तोहे कान्हा

कहाँ कहाँ ढूंढूं तोहे कान्हा
कहाँ छुपे हो बताओं ना कान्हा
कहाँ कहाँ ढूंढूं ……………

जमुना किनारा तोहरे बिन सूना
आवो बंसी बजाओ ना काना
कहाँ छुपे हो बताओं ना कान्हा
कहाँ कहाँ ढूंढूं ……………
ग्वाल बाल सब राह तकत हैं
सांवरी सूरत दिखाओ ना कान्हा
कहाँ छुपे हो बताओं ना कान्हा
कहाँ कहाँ ढूंढूं ……………

वृन्दावन में ढूंढत गोपियाँ
आओ रास रचाओ ना कान्हा
कहाँ छुपे हो बताओं ना कान्हा
कहाँ कहाँ ढूंढूं ……………

मात यशोदा रोवत तोहरी
आके गले लग जाओ ना कान्हा
कहाँ छुपे हो बताओं ना कान्हा
कहाँ कहाँ ढूंढूं ……………

Leave a Reply