कान्हा बुलावे राधा न आवे

कान्हा बुलावे राधा न आवे
आजा मेरी राधा री तेरे बिन लागे न जी।।

कैसे मैं आऊ मेरे दादा जी खड़े है
कैसे मैं आऊ मेरे ताऊ जी खड़े है
पायल मेरी भजनी रे के तेरे बिन लागे न जी।।

प्याल उतार के लम्भा घुंगट मार के
आजा मेरी राधा री तेरे बिन लागे न जी।।

कैसे मैं आऊ मेरे पिता जी खड़े है
कैसे मैं आऊ मेरी माता जी खड़े है
पायल मेरी भजनी रे के तेरे बिन लागे न जी।।

प्याल उतार के लम्भा घुंगट मार के
आजा मेरी राधा री तेरे बिन लागे न जी।।

कैसे मैं आऊ मेरे भैया जी खड़े है
कैसे मैं आऊ मेरी मामा जी खड़े है
पायल मेरी भजनी रे के तेरे बिन लागे न जी।।

प्याल उतार के लम्भा घुंगट मार के
आजा मेरी राधा री तेरे बिन लागे न जी।।

Leave a Reply