कान्हा मीठी मीठी मुरली कि तान तुम्हारी

कान्हा मीठी मीठी मुरली कि तान तुम्हारी,
मिश्री से मीठी लागे मिश्री से मीठी लागे,
मिश्री से मीठी लागे मिश्री से मीठी लागे प्यारी प्यारी,
कान्हा मिठी मिठी मुरली कि तान तुम्हारी।।

चित्त को चुराए लुटे मन का ये चैन रे,
बावरा बनाये तेरे जादू भरे नैन ये,
मन में बसी है ऐसी मन में बसी है ऐसी,
मन में बसी है ऐसी अदाएं तुम्हारी,
कान्हा मिठी मिठी मुरली कि तान तुम्हारी।।

कान्हा मीठी मीठी मुरली कि तान तुम्हारी,
मिश्री से मीठी लागे मिश्री से मीठी,
मिश्री से मीठी लागे मिश्री से मीठी लागे प्यारी प्यारी,
कान्हा मिठी मिठी मुरली कि तान तुम्हारी।।

सिंगर – सुरभि चतुर्वेदी

Leave a Reply