काली कर ढाली राधा यमुना के जल को

श्री कृष्ण की बिरहन बन के राधा है इतना रोई
ये सारा जग केहता है रोया है इतना न कोई
आंसुओ से धोये जो काजल को
काली कर ढाली राधा यमुना के जल को।।

सुध बुध खोई राधा प्रेम दीवानी दर दर
विरेह में भटके मेहलो की रानी
सेह न पाई जुदाई के पल को
काली कर ढाली राधा यमुना के जल को।।

अंतिम सांस है अटकी मिलने की आस में
रो पड़े है कान्हा आके राधा के पास में
देवता भी देख रहे प्रेम मिलन को
काली कर ढाली राधा यमुना के जल को।।

राधा चली गई जब कन्हिया को छोड़ के
मुरलियां धर बंसुरिया अपनी फेंक दिए तोड़ कर,
टूटी बाँसुरिया देखे सुनी पायल को
काली कर ढाली राधा यमुना के जल को।।

Shri Krishna Ki Virhan Banke
Radha Hai Itna Royi
Ye Sara Jag kehta Hai
Roya Na Itna Koi

Aansuo Se Dhoyi Jo Kajal Ko
Kaali Kar Daari Radha Yamuna Ke Jal Ko

Sudh Budh Khoi Radha Prem Deewani
Dar Dar Virah Mein Bhatke Mehalo Ki Rani
Paayi Judai Ke Pal Ko
Sehne Na Payi Judai Ke Pal Ko
Kaali Kar Daari Radha Yamuna Ke Jal Ko

Antim Saans Hai Atiki
Milne Ki Aas Mein

Ro Pade Hai Kanha
Aake Radha Ki Pass Mein

Devta Bhi Dekh Rahe
Prem Milan Ko

Kaali Kar Daali Radha
Yamuna Ke Jal Ko

Radha Chali Gayi Jab
Kanhaiya Ko Chhod Ke
Murali Dhar Banasuriya
Apni Fek Diye Tod Ke

Tooti Bansuriya
Dekhe Sun Payal Ko

Kaali Kar Daali Radha
Yamuna Ke Jal Ko

Leave a Reply