किसी नज़र को तेरा इंतज़ार आज भी है कन्हैया

किसी नज़र को तेरा इंतज़ार आज भी है कन्हैया
कहा हो तुम के ये दिल बेक़रार आज भी है
किसी नज़र को तेरा इंतज़ार आज भी है कन्हैया

वो प्यार जिसके लिए हमने छोड़ दी दुनिया
हो वफ़ा की राह पे घायल वो प्यार आज भी है
किसी नज़र को तेरा इंतज़ार आज भी है कन्हैया

किसी नज़र को तेरा इंतज़ार आज भी है कन्हैया
कहा हो तुम के ये दिल बेक़रार आज भी है
किसी नज़र को तेरा इंतज़ार आज भी है कन्हैया

यकीं नहीं है मगर आज भी ये लगता है
मेरी तलाश में शायद बहरे आज भी है कन्हैया
किसी नज़र को तेरा इंतज़ार आज भी है कन्हैया

कहा हो तुम के ये दिल बेक़रार आज भी है
किसी नज़र को तेरा इंतज़ार आज भी है कन्हैया

ना पूछ कितने मोहब्बत के कितने जखम खाये है
जिनको सोच के दिल सो गवार आज भी है
किसी नज़र को तेरा इंतज़ार आज भी है कन्हैया

Leave a Reply