कुछ दे या ना दे श्याम इस अपने दीवाने को

कुछ दे या ना दे श्याम इस अपने दीवाने को,
दो आंसू तो दे दे चरणों में बहाने को।।

नरसी ने बहाए थे मीरा ने बहाए थे,
नरसी ने बहाये थे मीरा ने बहाये थे,
जब जब भी कोई रोया तुम दौड़ के आये थे,
काफी है दो बूँदें घनश्याम रिझाने को,
दो आंसू तो दे दे चरणों में बहाने को।।

आँसू वो ख़जाना हैं किस्मत से मिलता है,
आंसू वो खज़ाना है क़िस्मत से मिलता है,
इनके बह जाने से मेरा श्याम पिघलता है,
करुणा का तू सागर है अब छोड़ बहाने को,
दो आंसू तो दे दे चरणों में बहाने को।।

दुख में बह जाते हैं ख़ुशियों में जरुरी है,
दुख में बह जाते हैं खुशियों में जरुरी हैं,
आंसू के बिना संजू हर आँख अधूरी है,
पूरा करते आंसू हर इक हरजाने को,
दो आंसू तो दे दे चरणों में बहाने को।।

कुछ दे या ना दे श्याम इस अपने दीवाने को,
दो आंसू तो दे दे चरणों में बहाने को।।

Leave a Reply