कोई भाव से मेरे सतगुरु को सजा दे

कोई भाव से मेरे सतगुरु को सजा दे
भाग्य जग जाएगा भाग्य जग जाएगा।।

गुरुवर को गंगाजल से पहले नहला दो
रोली चन्दन से तिलक लगा दो
फिर भाव से पुष्पों का हार चढ़ा दो
भाग्य जग जाएगा भाग्य जग जाएगा।।

सतगुरु को छप्पन भोग ना भाए
भूखा है भाव का जो भी दिखाए
फिर भाव से गुरुवर को भोग लगा दे
भाग्य जग जाएगा भाग्य जग जाएगा।।

गुरुवर के चरणों में स्वर्ग है लगता
श्रष्टि झुके आसमान भी झुकता
फिर भाव से तू अपना शीश झुका दे
भाग्य जग जाएगा भाग्य जग जाएगा।।

कोई भाव से मेरे सतगुरु को सजा दे
भाग्य जग जाएगा भाग्य जग जाएगा।।

सिंगर – संजय गुलाटी

Koi Bhav Se Mere Satguru Ko Saja De
Bhagya Jaag Jaega Bhagya Jaag Jaega

Guruvar Ko Gangajal Se Pahale Nahala Do
Roli Chandan Se Tilak Laga Do
Phir Bhav Se Pushpon Ka Har Chadha Do
Bhagya Jaag Jaega Bhagya Jaag Jaega

Satguru Ko Chhappan Bhog Na Bhae
Bhukha Hai Bhav Ka Jo Bhi Dikhae
Phir Bhav Se Guruvar Ko Bhog Laga De
Bhagya Jaag Jaega Bhagya Jaag Jaega

Guruvar Ke Charanon Mein Svarg Hai Lagta
Shrashti Jhuke Asaman Bhi Jhukata
Phir Bhav Se Tu Apana Shish Jhuka De
Bhagy Jaag Jaega Bhagy Jaag Jaega

Koi Bhav Se Mere Satguru Ko Saja De
Bhagya Jaag Jaega Bhagya Jaag Jaega

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply