क्या कसूर है मेरा प्यारे मोहन

क्या कसूर है मेरा प्यारे मोहन
तेरी रहमत से क्यो खाली हूँ
कब तक श्यामा तड़पौगे
कब मेरी गली तुम आओगे
क्या कसूर है मेरा प्यारे मोहन।।

तेरी प्यार में पागल हो गयी मैं
कब मेहर कामई बरसाओगे
जैसे त्रेता में सबरी के घर आए
मेरे घर कब भोग लगाओगे
कब तक श्यामा तड़पौगे
कब मेरी गली तुम आओगे
क्या कसूर है मेरा प्यारे मोहन।।

मेरे मान में हिलोरे उठती है
कब दर्शन देने आओगे
कब तक मुझे यूँ तरसाओगे
मेरी उलझन सुलझौगे।।

कब तक श्यामा तड़पौगे
कब मेरी गली तुम आओगे
क्या कसूर है मेरा प्यारे मोहन।।

मैं तो आके तेरे दर बैठ गयी
कब चर्नो से अपनी लगाओगे
तेरे दर पे आके क्यू खाली हूँ
कब तड़पन मेरी मिटाओगे।।

कब तक श्यामा तड़पौगे
कब मेरी गली तुम आओगे
क्या कसूर है मेरा प्यारे मोहन।।

Kya Kasur Hai Mera Pyare Mohan
Teri Rehmat Se Kyo Khali Hoon
Kab Tak Shyama Tadpauge
Kab Meri Gali Tum Aaoge
Kya Kasur Hai Mera Pyare Mohan

Teri Pyar Mein Pagal Ho Gayi Main
Kab Mehar Kameeh Barsaoge
Jaise Treta Mein Sabari Ke Ghar Aaye
Mere Ghar Kab Bhog Lagaoge
Kab Tak Shyama Tadpauge
Kab Meri Gali Tum Aaoge
Kya Kasur Hai Mera Pyare Mohan

Mere Man Mein Hilore Uthati Hai
Kab Darshan Dene Aauge
Kab Tak Mujhe Yun Tarsaoge
Meri Uljhan Suljhauge

Kab Tak Shyama Tadpauge
Kab Meri Gali Tum Aaoge
Kya Kasur Hai Mera Pyare Mohan

Main To Aake Tere Dar Baith Gayi
Kab Charno Se Apni Lagaoge
Tere Dar Pe Aake Kyu Khaali Hoon
Kab Tadpan Meri Mitauge

Kab Tak Shyama Tadpauge
Kab Meri Gali Tum Aaoge
Kya Kasur Hai Mera Pyare Mohan

Leave a Reply