क्या क्या किया जनाब वहां सब हिसाब है

क्या क्या किया जनाब
वहां सब हिसाब है।
अच्छा किया या खराब
वहां सब हिसाब है।

एक अदालत यहा एक अदालत वाहा
एक अदालत यहा एक अदालत वाहा
सोच के रखो तू जवाब वहा सब हिसाब है
अच्छा किया या खराब वहा सब हिसाब है।।

गुनाह करता था जब लगा सुनसान है
देख रहा था आस पास वाहा सब हिसाब है।।

अच्छा किया या खराब
वहा सब हिसाब है
क्या क्या किया है तू जनाब
वहा सब हिसाब है।।

जिहवा सुख के लिए
जीव का वध किया।।

जितना चबाये हो कबाब
वाहा सब हिसाब है।।

अच्छा क्या या खराब
वाहा सब हिसाब है
क्या क्या किया है तू जनाब
वाहा सब हिसाब है।।

वाहा रिश्वत भला
किसको दोगे फणी।।

पेड़ पोढ़ा भी है गावाह
वाहा सब हिसाब है।।

अच्छा क्या या खराब
वहा सब हिसाब है।।
क्या क्या किया है तू जनाब
वहा सब हिसाब है।।

Kya Kya Kiya Hai Tu Janab
Vaha Sab Hisab Hai

Achha Kiya Ya Kharab
Vaha Sab Hisab Hai

Ek Adalat Yaha Ek Adalat Vaha
Ek Adalat Yaha Ek Adalat Vaha
Soch Ke Rakho Tu Jawab Vaha Sab Hisab Hai
Achha Kiya Ya Kharab Vaha Sab Hisab Hai

Gunaah Karta Tha Jab Laga Sunsaan Hai
Dekh Raha Tha Aas Pass Vaha Sab Hisab Hai

Achha Kiya Ya Kharab
Vaha Sab Hisab Hai

Kya Kya Kiya Hai Tu Janab
Vaha Sab Hisab Hai

Jihva Sukh Ke Liye
Jeev Ka Vadh Kiya

Jitna Chabaye Ho Kabab
Vaha Sab Hisab Hai

Achha Kya Ya Kharab
Vaha Sab Hisab Hai

Kya Kya Kiya Hai Tu Janab
Vaha Sab Hisab Hai

Vaha Rishwat Bhala
Kisko Doge Fani

Ped Podha Bhi Hai Gaavah
Vaha Sab Hisab Hai

Achha Kya Ya Kharab
Vaha Sab Hisab Hai

Kya Kya Kiya Hai Tu Janab
Vaha Sab Hisab Hai

This Post Has One Comment

Leave a Reply