क्या खेल रचती है माया

करो भजन बंदे,
वहा तेरे साथ कुछ भी ना जाएगा,
लेगा हरी का नाम जो भव से तर जाएगा।।

रची प्रभु ने काया,
जुड़ी है जिस से माया,
ऋषियो ने भेद ना पाया,
क्या खेल रचती है माया।।

मात पिता से भी डोर करा दे,
भाई और बेहन में फुट करा दे,
अपनो से इसने डोर कराया,
करमो से इसने कमाया,
क्या खेल रचती है माया,
क्या खेल रचती है माया।।

बन कर अँधा इसकी और दौड़,
उतना ही इसको अपनी और खीचे,
कर कर कमाई पापो की तूने,
पापो से घड़ा भराया,
क्या खेल रचती है माया,
क्या खेल रचती है माया।।

जानम जानम के रिश्ते पुराने,
कर डाले इसने पल में बेगाने,
कोई तो रास्ता है एक तका को,
किसी को माला माल कराया,
क्या खेल रचती है माया,
क्या खेल रचती है माया।।

रची प्रभु ने काया,
जुड़ी है जिस से माया,
ऋषियो ने भेद ना पाया,
क्या खेल रचती है माया।।

Karo Bhajan Bande
Vaha Tere Sath Kuchh Bhi Naa Jayega
Lega Hari Ka Naam Jo Bhav Se Tar Jayega

Rachi Prabhu Ne Kaya
Judi Hai Jis Se Maya
Rishiyo Ne Bhed Naa Paya
Kya Khel Rachati Hai Maya

Maat Pita Se Bhi Door Kara De
Bhai Aur Behan Mein Foot Kara De
Apno Se Isne Door Karaya
Karmo Se Isne Kamaya
Kya Khel Rachati Hai Maya
Kya Khel Rachati Hai Maya

Ban Kar Andha Iski Aur Daud
Utna Hi Isko Apni Aur Kheeche
Kar Kar Kamayi Paapo Ki Tune
Paapo Se Ghada Bharaya
Kya Khel Rachati Hai Maya
Kya Khel Rachati Hai Maya

Janam Janam Ke Rishte Purane
Kar Daale Isne Pal Mein Begane
Koi To Rasta Hai Ek Taka Ko
Kisi Ko Mala Maal karaya
Kya Khel Rachati Hai Maya
Kya Khel Rachati Hai Maya

Rachi Prabhu Ne Kaya
Judi Hai Jis Se Maya
Rishiyo Ne Bhed Naa Paya
Kya Khel Rachati Hai Maya

Leave a Reply