क्यों न तेरी सिफत करा झंडेवाली सरकार

भुलेया नु तू रस्ते पा दे डूबेया नु देवे तार
क्यों न तेरी सिफत करा झंडेवाली सरकार
क्यों न तेरी सिफत करा झंडेवाली सरकार।।

असी हर अष्टमी औने आ
मुहो मंगियाँ मुरादा पौने आ
तेरा वसदा रवे दरबार
क्यों न तेरी सिफत करा झंडेवाली सरकार।।

तेरे भरे रेहन भण्डार सदा
तू बंडदी बचेया नु खैर सदा
तेथो मंगदा है कुल संसार
क्यों न तेरी सिफत करा झंडेवाली सरकार।।

इक तू सची सरकार मैया
किते प्रिंस से बेड़े पार मैया
किंज भूले साहिल उपकार
क्यों न तेरी सिफत करा झंडेवाली सरकार।।

Leave a Reply