क्यों सजते हो कन्हैया तुम तेरा दीदार काफी है

क्यों सजते हो कन्हैया तुम तेरा दीदार काफी है
हमें दीवाना करने को नज़र का वार काफी है
क्यों सजते हो कन्हैया तुम………………..

क्या उबटन केशरी जलवा क्यों चन्दन से सजे हो तुम
की ब्रिज की धुल में जुसरित तेरा श्रृंगार काफी है
क्यों सजते हो कन्हैया तुम………………..

क्यों माथे स्वर्ण मानक और बहुमूलक मुकुट राखो
वो घुंघराले घने केशव पे मोर की पाख काफी है
क्यों सजते हो कन्हैया तुम………………..

क्या चंपा मोगरा जूही वैजयंती माल गल पेहरो
श्री राधा जी की बहियन का तेरे गल हार काफी है
क्यों सजते हो कन्हैया तुम………………..

ना छप्पन भोग की तृष्णा तुम्हे हरगिज़ नहीं कान्हा
तुम्हे तो तृप्त करने को एक तुलसी सार काफी है
क्यों सजते हो कन्हैया तुम………………..

हो मोहक श्याम वर्णी तुम हो नामारूप घनश्यामा
तेरी कृपा को बरसाने को मन मल्हार काफी है
क्यों सजते हो कन्हैया तुम………………..

कभी उर में हुआ गुंजन कहे कान्हा सुनले पवन
मैं तो बस भावना देखूं मुझे तो प्यार काफी है

Kyo Sajate Ho Kanhaiya Tum Tera Deedar Kaafi Hai
Humen Divana Karane Ko Nazar Ka Vaar Kaafi Hai
Kyo Sajate Ho Kanhaiya Tum

Kya Ubatan Keshari Jalava Kyo Chandan Se Saje Ho Tum
Ki Brij Ki Dhul Mein Jusarit Tera Shringar Kaafi Hai
Kyo Sajate Ho Kanhaiya Tum

Kyo Mathe Svarn Manak Aur Bahumulak Mukut Rakho
Vo Ghungharale Ghane Keshav Pe Mor Ki Pakh Kaafi Hai
Kyo Sajate Ho Kanhaiya Tum

Kya Champa Mogara Juhi Vaijayanti Mal Gal Peharo
Shri Radha Ji Ki Bahiyan Ka Tere Gal Har Kaafi Hai
Kyo Sajate Ho Kanhaiya Tum

Na Chhappan Bhog Ki Trshna Tumhe Haragiz Nahin Kanha
Tumhe To Trpt Karane Ko Ek Tulasi Sar Kaafi Hai
Kyo Sajate Ho Kanhaiya Tum

Ho Mohak Shyam Varni Tum Ho Namaroop Ghanashyama
Teri Kripa Ko Barsane Ko Man Malhar Kaafi Hai
Kyo Sajate Ho Kanhaiya Tum

Kabhi Ur Mein Hua Gunjan Kahe Kanha Sunale Pavan
Main To Bas Bhavana Dekhun Mujhe To Pyar Kaafi Hai

Leave a Reply