गणपति मेरे अंगना पधारो आस तुम से लगाये हुए है

गणपति मेरे अंगना पधारो,
आस तुम से लगाये हुए है,
काज करदो हमारे भी पुरे
तेरे चरणों में हम तो खड़े है।।

कितनी श्रधा से मंडप सजाया
अपने घर में ही उत्सव मनाया,
सचे मन से ये दीपक जलाया
भोग मोदक का तुम को लगाया,
रिधि सीधी को संग लेके आओ
हाथ जोड़े ये विनती किये है।।

वीधन हरता हो तुम दुःख हरते,
अपने भगतो का मंगल हो करते,
हे चतुर बुज सीधी विनायक
उसकी सुखो से झोली हो भरते,
रेहते सुभ लाभ संग में तुम्हारे,
हाथ पुस्तक मोदक लिए है।।

करते वन्दन है गोरी के लाल
मेरे जीवन में करदो उजाला,
पिता भोले है गणपति तुम्हारे
सभी देवो के तुम ही हो प्यारे,
इस गिरी की भी सुध लेलो बाप्पा,
काज कितनो के तुम ने किये है।।

Ganpati Mere Agna Padharo
Aas Tumse Lagaye Hue Hai

Kaaj Kardo Hamare Bhi Pure
Tere Charno Mein Hum To Khade Hai
Ganpati Mere Agna Padharo

Kitni Shraddha Se Mandap Sajaya
Sachche Man Se Ye Deepak Jalaya
Bhog Modak Ka Tumko Lagaya

Riddhi Siddhi Ko Sang Leke Aao ‘
Hath Jode Ye Vinti Kiye Hai
Ganpati Mere Agna Padharo

Vighan Harta Ho Tum Dukh Harte
Apne Bhakto Ka Mangal Hai Karte

He chatar Bhuj Hey Siddhi Vianayak
Rehte Shubh Laabh Sang Mein Tumhare
Hath Pushtak Modak Liye Hai
Ganpati Mere Agna Padharo

Karte Vandan Hai Gori Ke Lala
Mere Jeevan Mein Kardo Ujala
Pita Bhole Hai Ganpati Tumhare
Sabhi Devo Ke Tumhi Ho Pyare
Iss Giri Ki Bhi Sudh Lelo Bappa
Kaaj Kitno Ke Tumne Kiye Hai

Ganpati Mere Agna Padharo
Aas Tumse Lagaye Hue Hai

Leave a Reply