गुरु जी मेरी नाव पुरानी हो किस विधि पार लगाओगे

गुरु जी मेरी नाव पुरानी हो किस विधि पार लगाओगे
नाव पुरानी सागर भारी अधर बीच में झोले खा रही।।

गुरु जी जाने को न हो दया की भली आप लगाओगे
गुरु जी मेरी नाव पुरानी हो किस विधि पार लगाओगे।।

मतलब की है दुनिया सारी बिन मतलब की न है यार
गुरु जी मेरी सुनो कहानी हो के बिगड़ी आप बनाओगे।।

रंग फिकर में गिर गई काया मुख दे से मोह और माया
गुरु जी मेरे गिरे नैन ते नीर धीर मेरी आप बढ़ाओगे
गुरु जी मेरी नाव पुरानी हो किस विधि पार लगाओगे।।

गुरु जी मेरी नाव पुरानी हो किस विधि पार लगाओगे
नाव पुरानी सागर भारी अधर बीच में झोले खा रही।।

Leave a Reply