गुरु बड़े सबसे बड़े गुरु से बड़ा ना कोय

गुरु बड़े सबसे बड़े गुरु से बड़ा ना कोय
जिनहि लखायो हरी को शीश नाओ सोये

शरण गुरु की आए तो भटकना बंद हो जाए
जानम और मौत की चिंता खटकना बंद हो जाए

विश्वास्तौ की जंजीरो में जकड़ा जो तेरा जीवन
सभी मत पंत मज़हब में अटकना बंद हो जाए

शरण गुरु की आए तो भटकना बंद हो जाए
जानम और मौत की चिंता खटकना बंद हो जाए

चौरासी के चक्कर में अनेका अनेक युग बीते
यहा मंत्रो से माया में भटकना बंद हो जाए

अगर गुरुव के वचनमृत अगर तुम पान करलोगे
तो मा के घर्भ में उल्टा लटकना बंद हो जाए

शरण गुरु की आए तो भटकना बंद हो जाए
जनम और मौत की चिंता खटकना बंद हो जाए

तो फिर चेतन की मस्ती में हिमूड मंगल मनाओगे
अरे फिर काल का उधर पटकाना बंद हो जाए
जनम और मौत की चिंता खटकना बंद हो जाए

शरण गुरु की आए तो भटकना बंद हो जाए
जनम और मौत की चिंता खटकना बंद हो जाए

Guru Bade Sabse Bade Guru Se Bada Na Koy
Jinahi Lakhayo Hari Ko Sheesh Navau Soye

Sharan Guru Ki Aaye To Bhatakna Band Ho Jaye
Janam Aur Maut Ki Chinta Khatana Band Ho Jaye

Vishvastau Ki Janjeero Mein Jakda Jo Tera Jeevan
Sabhi Mat Panth Majhab Mein Atkna Band Ho Jaye

Sharan Guru Ki Aaye To Bhatakna Band Ho Jaye
Janam Aur Maut Ki Chinta Khatana Band Ho Jaye

Chaurasi Ke Chakkar Mein Aneka Anek Yug Beete
Yaha Mantro Se Maya Mein Bhatakna Band Ho Jaye

Agar Guruo Ke Vachnamrat Agar Tum Paan Karloge
To Maake Gharbh Mein Ulta Latkna Band Ho Jaye

Sharan Guru Ki Aaye To Bhatakna Band Ho Jaye
Janam Aur Maut Ki Chinta Khatana Band Ho Jaye

To Fir Chetan Ki Masti Mein Himud Mangal Manaoge
Are Fir Kaal Ka Udhar Patkana Band Ho Jaye
Janam Aur Maut Ki Chinta Khatana Band Ho Jaye

Sharan Guru Ki Aaye To Bhatakna Band Ho Jaye
Janam Aur Maut Ki Chinta Khatana Band Ho Jaye

This Post Has 3 Comments

Leave a Reply