गोकुल में बजी है बधाई

भादो की आधी रात में जन्मे है कृष्ण कन्हाई
गोकुल में बजी है बधाई आज गोकुल में बजी है बधाई।।

मथुरा में जन्मे कान्हा गोकुल पधारे
हर्षित हुए हैं आज गोकुल जन सारे
पैदा होते ही कैसा खेल दिखाया
पहरे दारो को कैसी नींद सुलाया
रचदी है लीला अपनी माया है मथुरा पहुंचाई।।

दीपो से चमके जगमग सारी ही बस्ती
तीनों लोको में आज छाई है मस्ती
मैया यशोदा देखे कान्हा का मुखड़ा
मेरे कलेजे का तू है रे टुकड़ा
मस्तक चूमे लला का फूली ना आज समाई।।

दर्शन पाने कान्हा का सब दौड़े आए
अनेको खिलोने उपहार में लाए
विजय बनाके लाया शब्दो की माला
अर्पण है पहनो माँ यशोदा के लाल
नन्द बाबा करे बड़ाई आज खुशी की रूत आई ।।

Bhaado Ki Adhi Raat Mein Janme Hai Krishna Kanhai
Gokul Mein Baji Hai Badhai Aaj Gokul Mein Baji Hai Badhai

Mathura Mein Janme Kanha Gokul Padhare
Harshit Hue Hain Aaj Gokul Jan Saare
Paida Hote Hi Kaisa Khel Dikhaya
Pahare Daro Ko Kaisi Nind Sulaya
Rachadi Hai Lila Apani Maya Hai Mathura Pahunchai

Dipo Se Chamke Jagamag Sari Hi Basti
Tinon Loko Mein Aaj Chhai Hai Masti
Maiya Yashoda Dekhe Kanha Ka Mukhada
Mere Kaleje Ka Tu Hai Re Tukada
Mastak Chume Lala Ka Phuli Na Aaj Samai

Darshan Pane Kanha Ka Sab Daude Ae
Aneko Khilone Upahar Mein Laye
Vijay Banake Laya Shabdo Ki Mala
Arpan Hai Pahano Man Yashoda Ke Lala
Nand Baba Kare Badai Aaj Khushi Ki Rut Aai

Leave a Reply