गोकुल से शोर आया माखन का चोर आया

गोकुल से शोर आया माखन का चोर आया
ये तो करता है दिन में चोरी
आज पकड़े गी गोकुल की गोरी
ये कैसा चित चोर आया
गोकुल से शोर आया माखन का चोर आया।।

माखन यशोदा के जिस का न ठोर है
चोरी के माखन का मजा कुछ और है
माँ यशोदा की ममता का चोर
नन्द बाबा की सांसो की डोर
ये बांधे सिर मोर आया
गोकुल से शोर आया माखन का चोर आया।।

दिन में गोपाल बाल मटकी उतारे
माखन समेट सारे मुह को सवारे,
कभी ग्वालिन से करे सीना जोरी,
मिले न माखन ऊँगली मरोड़ी
देखो ग्वालो का जोर आया
गोकुल से शोर आया माखन का चोर आया।।

Gokul Se Shor Aaya Makhan Ka Chor Aaya
Ye To Karata Hai Din Mein Chori
Aaj Pakadegi Gokul Ki Gori
Ye Kaisa Chit Chor Aaya
Gokul Se Shor Aaya Makhan Ka Chor Aaya

Makhan Yashoda Ke Jis Ka Na Thor Hai
Chori Ke Makhan Ka Maja Kuchh Aur Hai
Man Yashoda Ki Mamata Ka Chor
Nand Baba Ki Sanso Ki Dor
Ye Bandhe Sir Mor Aaya
Gokul Se Shor Aaya Makhan Ka Chor Aaya

Din Mein Gopal Bal Mataki Utare
Makhan Samet Sare Muh Ko Savare
Kabhi Gwalin Se Kare Sina Jori
Mile Na Makhan Ungali Marodi
Dekho Gvalo Ka Jor Aaya
Gokul Se Shor Aaya Makhan Ka Chor Aaya

Leave a Reply