चढ़ गई नाम खुमारी मैनू

चढ़ गई नाम खुमारी मैनू चढ़ गई नाम खुमारी
कमली रमली जोगन रोगन कर गया बांके बिहारी।।

कोई दवा ना होवे जिसदी लगया रोग निराला
नाम श्याम दा ले के मैनू दे दो जहर प्याला
उसदे नाम दी बुटी सखियो सब रोगा ते भारी
चढ़ गई नाम खुमारी मैनू चढ़ गई नाम खुमारी।।

जिसदे नाम दी मैं हाँ जोगन ओ वृन्दावन वासी
आके अपना दर्श दिखा दे मर ना जावा प्यासी
कुंडला वाले श्याम नू कह दो ओ जीतया मैं हारी
चढ़ गई नाम खुमारी मैनू चढ़ गई नाम खुमारी।।

चाँद सितारे स्वर्ग नजारे कुछ ना मैनू भावे
झल्ला होके दिल ऐ पुकारे इको नगमा गावे
एक पासे मेरा श्याम प्यारा दूजे दुनिया सारी
चढ़ गई नाम खुमारी मैनू चढ़ गई नाम खुमारी।।

नाम खुमारी चढ़ गई ऐसी आप ही रोवा हँसा
सागर दिल दा हाल अपना आ मैं तैनू दसा
मिल जावे जे मुरली वाला जावा वारी वारी
चढ़ गई नाम खुमारी मैनू चढ़ गई नाम खुमारी
कमली रमली जोगन रोगन कर गया बांके बिहारी ।।

Leave a Reply