चन्दन का है पलना रेशम की है डोर

चन्दन का है पलना रेशम की है डोर,
वृंदावन में झुला झूले नटवर नन्द किशोर।।

देख यशोदा मैया मन ही मन फुले
आज कन्हिया मेरा पलना में झूले
आज ख़ुशी छाई है गोकुल में चारो और
वृंदावन में झुला झूले नटवर नन्द किशोर।।

थप के सुलाए मैया जपक के आंचल,
माथे पर टीका सोहे आँखों में काजल
सखिया देवे वधाईया यशोदा के कर जोर
वृंदावन में झुला झूले नटवर नन्द किशोर।।

Chandan Ka Hai Palana Resham Ki Hai Dor
Vrndavan Mein Jhula Jhule Natavar Nand Kishor

Dekh Yashoda Maiya Man Hi Man Phule
Aj Kanhiya Mera Palana Mein Jhule
Aj Khushi Chhai Hai Gokul Mein Charo Aur
Vrndavan Mein Jhula Jhule Natavar Nand Kishor

Thap Ke Sulae Maiya Japak Ke Anchal
Mathe Par Tika Sohe Ankhon Mein Kajal
Sakhiya Deve Vadhaiya Yashoda Ke Kar Jor
Vrndavan Mein Jhula Jhule Natavar Nand Kishor

Leave a Reply