चन कोलो पुछले तू तारेयाँ तो पुछले

चन तारेयाँ तो पुछले जय हो
चन कोलो पुछले तू तारेयाँ तो पुछले
माये ऐना भक्त प्यारिया तो पुछले।।

किनी सी उडीक तेरे दीदार दी नजरिया तो पुछले
चन कोलो पुछले तू तारेयाँ तो पुछले
माये ऐना भक्त प्यारिया तो पुछले
चन तारेयाँ तो पुछले जय हो
चन कोलो पुछले तू तारेयाँ तो पुछले।।

वेडे पैर पाए मेरे तेरी वडियाए ऐ
अजीब लग्गा जी मैं जन्नत मैं पायी ऐ
शहर कोलो पुछले माँ गलियां तो पुछले
अपनी खिलैया फूल कलियाँ तो पुछले
साणु जेडे रखे दुलरिया लारिया तो पुछले।।

चन कोलो पुछले तू तारेयाँ तो पुछले
माये ऐना भक्त प्यारिया तो पुछले।।

आज तू माँ आयी लग्गा घर मेरे मेला माँ
एक एक पल नाचे होक अलबेला माँ
गल विच पाए मौलिया तो पुछले
खली जो फैलाइये झोलिया तो पुछले
हरपाल गूंजते जेडे माँ जयकारो ते पुछले ।।

चन कोलो पुछले तू तारेयाँ तो पुछले
माये ऐना भक्त प्यारिया तो पुछले
चन तारेयाँ तो पुछले जय हो
चन कोलो पुछले तू तारेयाँ तो पुछले।।

This Post Has 2 Comments

  1. Pingback: चली मेरी मात भवानी रे – bhakti.lyrics-in-hindi.com

  2. Pingback: durga bhajan lyrics – bhakti.lyrics-in-hindi.com

Leave a Reply