चल रे बाई प्रभु की नगरियां

चल रे बाई प्रभु की नगरियां
चल री बेहना प्रभु की नगरियां,
प्रभु के नगर बड़ी सूंदर डगरियाँ ,
चल रे बाई प्रभु की नगरियां

जो भी तेरा मन में भाये सब की खेल रचाये,
ना जाने पीछे का कोई सब की प्यास बुजाये
मोह माया के जाल में भरी सोने गगरियाँ
चल रे बाई प्रभु की नगरियां

बचपन खेल कूदो में बीता जवानी होश गवाए,
अपने ही जाल में फसा बुढ़ापा सोच सोच पछताए ,
किस की खातिर तोड़े जोड़े बीती रे उमरियाँ,
चल रे बाई प्रभु की नगरियां

जीवन गवा दिया तूने अपनों को सजाने में,
परम पिता परमेश्वर को बुला दियां अनजाने में,
चल अकेला अब जीवन का छोटे रे बजरियाँ,
चल रे बाई प्रभु की नगरियां

Chal Re Bhai Prabhu Ki Nagariya
Chal Re Behna Prabhu Ki Nagariya
Prabhu Ki Nagar Badi Sundar Dagariya
Chal Re Bhai Prabhu Ki Nagariya

Jo Bhi Tera Man Mein Bhaye
Sabahi Khel Rahchaye
Na Jaane Peechhe Kya Hoye
Sabhi Pyas Bujhaye Rama
Sabahi Pyas Bujhaye Ho

Moh Maya Ke Jaal Bhar Sone Gagariya
Chal Re Bhai Prabhu Ki Nagariya

Bachapan Khel Kood Mein Beeta
Jawani Hosh Gavaye
Apne Hi Jaal Mein Fasa Budapa
Soch Soch Pachhtaye Ho Rama
Soch Soch Pachhataye Ho

Kiski Khatir Tode Jode Beeti Re Umariya
Chal Re Bhai Prabhu Ki Nagariya
Chal Re Behna Prabhu Ki Nagariya

Jeevan Gava Diya Tumne Apne Ko Sajane Mein
Param Pita Parmeshwar Ko Bhula Diya Anjaane Mein

Chal Akela Ab Jeevan Ka Chhute Re Bajariya
Chal Re Bhai Prabhu Ki Nagariya
Chal Re Behna Prabhu Ki Nagariya

Leave a Reply