चारों दिशा में मैया जी की हो रही जय जयकार

चारों दिशा में मैया जी की हो रही जय जयकार
नवरातों की पावन बेला झूम रहा संसार
आज आयी माँ घर में बाजे रे धम धम धा।।

मैं निर्धन हूँ माता रानी कैसे तुझे खिलाऊँ माँ
रूखा सूखा जो मैं खाऊं वो ही भोग लगाऊं माँ
भोजन में भरपूर मिलेगा मईया मेरा प्यार
आज आयी माँ घर में बाजे रे धम धम धा।।

नवरातों में शेरोवाली मेरे घर में आई है
जात पात माँ कुछ ना देखे दुनिया को बतलाई है
हर्ष खड़ा सेवा में तेरी मेरा ये परिवार
आज आयी माँ घर में बाजे रे धम धम धा।।

सोने के आसन ना मैया कैसे तुझे बिठाऊँ माँ
टूटी फूटी वाणी से मैं कैसे तुझे रिझाऊं माँ
लेकिन अँखियों में मईया खूब भरा तेरा प्यार
आज आयी माँ घर में बाजे रे धम धम धा।।

Charo Disha Mein Maiya Ji Ki Ho Rahi Jai Jaikaar
Navaraton Ki Pavan Bela Jhum Raha Sansar
Aaj Aayi Maa Ghar Mein Baaje Re Dham Dham Dha

Main Nirdhan Hun Mata Rani Kaise Tujhe Khilaun Maa
Rukha Sukha Jo Main Khaun Vo Hi Bhog Lagaun Maa
Bhojan Mein Bharapur Milega Maiya Mera Pyar
Aaj Aayi Maa Ghar Mein Baje Re Dham Dham Dha

Navaraton Mein Sherovali Mere Ghar Mein Ai Hai
Jat Pat Maa Kuchh Na Dekhe Duniya Ko Batalai Hai
Harsh Khada Seva Mein Teri Mera Ye Parivar
Aaj Aayi Maa Ghar Mein Baje Re Dham Dham Dha

Sone Ke Asan Na Maiya Kaise Tujhe Bithaun Maa
Tuti Phuti Vani Se Main Kaise Tujhe Rijhaun Maa
Lekin Ankhiyon Mein Maiya Khub Bhara Tera Pyar
Aaj Aayi Maa Ghar Mein Baje Re Dham Dham Dha

Leave a Reply