जंगल में जोगी रहता है कभी रोता है कभी हंसता है

जंगल में जोगी रहता है
कभी रोता है कभी हंसता है
दिल उसका कही ना फसता
तन मन में चैन बरसता है
ओम हरी ओम।।

खुश फिरता नंग मलांगा है
नैनों में बहती गंगा
जो आजाए सो चंगा है
मुख रंग भरा रंगा है
ओम हरी ओम।।

जंगल में जोगी रहता है
कभी रोता है कभी हंसता है।।

गाता मौला मतवाला है
जब देखो भोला भला है
मॅन उसका उसकी माला है
तंन उसका शिवालए है
ओम हरी ओम।।

जंगल में जोगी रहता है
कभी रोता है कभी हंसता है
दिल उसका कही ना फसता है
तन मन में चैन बरसता है
ओम हरी ओम।।

पंछी उसके पास आते है
और दरिया गीत सुनते है
व्रक्षो से रिश्ते नाते है
बदल उनको नहलते है
ओम हरी ओम।।

जंगल में जोगी रहता है
कभी रोता है कभी हंसता है।।

नही परवाह जीने मरने
नही चिंता खाने पीने की
ना दिन की सुध ना महीने की
है पवन रुमाल पसीने की
ओम हरी ओम।।

वहा चाँद चटाका गुल जो खिला
उस मेहर की ज्योत से फूल झाड़ा
फ़ौवारा फेरत का उछाला
फुहार का जाग पेर नूवर पड़ा
ओम हरी ओम।।

जंगल में जोगी रहता है
कभी रोता है कभी हंसता है

गुलनार शफाक वह रंग भारी
जोगी के आयेज है जो खड़ी
जोगी की निगाहे रा गहरी
जो तकती रह रह कर है पड़ी
ओम हरी ओम।।

ओम हर हर हों ओम हरी ओम

जंगल में जोगी रहता है
कभी रोता है कभी हंसता है
दिल उसका कही ना फास्टा है
तन मन में चैन बरसता है
ओम हरी ओम।।

Om Hari Om
Jungle Mein Jogi Rehta Hai
Kabhi Rota Hai Kabhi Hansta Hai
Dil Uska Kahi Naa Fasta Hai
Tann Mann Mein Chain Barasta Hai

Jungle Mein Jogi Rehta Hai
Kabhi Rota Hai Kabhi Hansta Hai
Dil Uska Kahi Naa Fasta Hai
Tann Mann Mein Chain Barasta Hai
Om Hari Om

Khush Firta Nang Malanga Hai
Naiyano Mein Bahti Ganga
Jo Aajaye So Changa Hai
Mukh Rang Bhara Ranga Hai
Om Hari Om

Jungle Mein Jogi Rehta Hai
Kabhi Rota Hai Kabhi Hansta Hai

Gaata Maula Matwala Hai
Jab Dekho Bhola Bhala Hai
Mann Uska Uski Mala Hai
Tann Uska Shivalaye Hai
Om Hari Om

Jungle Mein Jogi Rehta Hai
Kabhi Rota Hai Kabhi Hansta Hai
Dil Uska Kahi Naa Fasta Hai
Tann Mann Mein Chain Barasta Hai
Om Hari Om

Panchhi Uske Pass Aate Hai
Aur Dariya Geet Sunate Hai
Vraksho Se Riste Naate Hai
Badal Unko Nahlate Hai
Om Hari Om

Jungle Mein Jogi Rehta Hai
Kabhi Rota Hai Kabhi Hansta Hai

Nahi Parwah Jeene Marane
Nahi Chinta Khane Peene Ki
Naa Din Ki Sudh Naa Mahine Ki
Hai Pawan Rumal Pasine Ki
Om Hari Om

Vaha Chand Chataka Gul Jo Khila
Uss Mehar Ki Jyot Se Phool Jhada
Fauvara Ferat Kaa Uchhala
Fuhar Ka Jag Per Noor Pada
Om Hari Om

Jangal Mein Jogi Rahta Hai
Kabhi Rota Hai Kabhi Hansta Hai

Gulnaar Shafak Vah Rang Bhari
Jogi Ke Aage Hai Jo Khadi
Jogi Ki Nigahe Raa Gahari
Jo Takti Rah Rah Kar Hai Padi
Om Hari Om

Om Har Har Hom Om Hari Om

Jangal Mein Jogi Rahta Hai
Kabhi Rota Hai Kabhi Hansta Hai
Dil Uska Kahi Naa Fasta Hai
Tann Mann Mein Chain Barasta Hai
Om Hari Om

This Post Has One Comment

  1. Pingback: सत्संग गया मैं बदल गया मैं – bhakti.lyrics-in-hindi.com

Leave a Reply