जन्मो से भटकी हुई नाव को लिरिक्स

जन्मो से भटकी हुई नाव को आज किनारा मिल गया
राम मेरे मुझ पापी को भी तेरा सहारा मिल गया,
जन्मो से भटकी हुई नाव को आज किनारा मिल गया

उल्जा हुआ था मैं माया के जंगल में तुम ने बचाया मुझे,
श्रधा सबुरी का वरदान दे कर जीना सिखाया मुझे,
तेरी किरपा से गंगा के जल में पानी ये खारा मिल गया
जन्मो से भटकी हुई नाव को आज किनारा मिल गया

केहने को तो चल रही थी ये सांसे बे जान थी आत्मा
हां मेरे पापो का जन्मो के शापों का तुमने किया खात्मा
तुमने छुआ तो तुमहरा हुआ तो जीवन दोबरा मिल गया
जन्मो से भटकी हुई नाव को आज किनारा मिल गया

ना जाने कितने जन्म और जलता तृष्णा की इस आग में
काले सवेरे थे लिखे अँधेरे थे श्याद मेरे भाग में
तुम आये ऐसे अंध्रो में जैसे कोई सितारा मिल गया
जन्मो से भटकी हुई नाव को आज किनारा मिल गया

janmo se bhatakee huee naav ko aaj kinaara mil gaya
raam mere mujh paapee ko bhee tera sahaara mil gaya,
janmo se bhatakee huee naav ko aaj kinaara mil gaya

ulja hua tha main maaya ke jangal mein tum ne bachaaya mujhe,
shradha saburee ka varadaan de kar jeena sikhaaya mujhe,
teree kirapa se ganga ke jal mein paanee ye khaara mil gaya
janmo se bhatakee huee naav ko aaj kinaara mil gaya

kehane ko to chal rahee thee ye saanse be jaan thee aatma
haan mere paapo ka janmo ke shaapon ka tumane kiya khaatma
tumane chhua to tumahara hua to jeevan dobara mil gaya
janmo se bhatakee huee naav ko aaj kinaara mil gaya

na jaane kitane janm aur jalata trshna kee is aag mein
kaale savere the likhe andhere the shyaad mere bhaag mein
tum aaye aise andhro mein jaise koee sitaara mil gaya
janmo se bhatakee huee naav ko aaj kinaara mil gaya

Leave a Reply