जब मेरे संवारे से नैना लड़े हाय मैं तो लुट गई खड़े खड़े

जब मेरे संवारे से नैना लड़े
हाय मैं तो लुट गई खड़े खड़े
लुट गई मैं तो खड़े खड़े
जब मेरे संवारे से नैना लड़े
हाय मैं तो लुट गई खड़े खड़े।।

मोहनी मूरत मन को मोहे
मोर पंख सिर उपर सोहे
उपर से उस में हीरे जडे
हाय मैं तो लुट गई खड़े खड़े।।

हाथ में मुरली कमर में पटका
लगा देख दिल को है झटका
बाल काले घुंगराले जचते बड़े
हाय मैं तो लुट गई खड़े खड़े।।

बात हकीकत कहे अनाडी
भूल गई मैं सुध बुध सारी,
मेरी अक्ल पे पत्थर पड़े
हाय मैं तो लुट गई खड़े खड़े।।

Jab Mere Sanvare Se Naina Lare
Haye Main To Lut Gayi Khade Khade
Lut Gayi Main To Khade Khade

Mohani Murat Man Ko Mohe
Mor Pankh Sir Upar Sohe

Uparse Usme Heere Jade
Heere Jade Heere Jade
Haye Main To Lut Gayi Khade Khade

Hath Mein Murali Kamar Mein Patka
Laga Dekh Dil Ko Hai Jhatka

Baale Ghugharale Jachate Bade
Haye Main To Lut Gayi Khade Khade

Baat Haqiqat Kahe Anadi
Bhool Gayi Main Sudh Budh Saari
Meri Akal Pe Patthar Pade

Jab Mere Sanware Se Naina Lade
Haye Main To Lut Gayi Khade Khade

Leave a Reply