जय जय वैष्णो मैया पार लगाओ नैया

अनुपम कन्या रूप सलोना वैष्णो उसका नाम है
सतसंघ पर्वत पर रेहती त्रिकुट घाटी पर धाम है
जय जय वैष्णो मैया पार लगाओ नैया।।

त्रेता युग में अधर्म बड़ा पाप की काली आंधी छाई,
पांच नमा शक्ति ने मिल के तृप्त तेज किरने भिखराई,
तेज कुञ्ज घन घोट हो आत सुंदर इक बालिका आई
पांच जगो की मिली शक्तियां इस कन्या में समाये,
जय जय वैष्णो मैया पार लगाओ नैया।।

मन सवा कर कर्म न तीनो देवियाँ से के आई
ज्ञान कुञ्ज आलोकित हो के कष्ट भी बम आंबे महामाई
राम जी की आज्ञा लेकर गेह्बर में तप करने आई
भेरव नाथ को घर से निकाला मुक्ति की राह दिखाए
जय जय वैष्णो मैया पार लगाओ नैया।।

Anupam Kanya Roop Salona Vaishno Uska Naam Hai
Satsangh Parvat Par Rehati Trikut Ghati Par Dham Hai
Jay Jay Vaishno Maiya Paar Lagao Naiya

Treta Yug Mein Adharm Bada Pap Ki Kali Andhi Chhai
Panch Nama Shakti Ne Mil Ke Trpt Tej Kirane Bhikharai
Tej Kunj Ghan Ghot Ho At Sundar Ik Balika Aai
Panch Jago Ki Mili Shaktiyan Is Kanya Mein Samaye
Jay Jay Vaishno Maiya Paar Lagao Naiya

Man Sava Kar Karm Na Tino Deviyan Se Ke Aai
Gyan Kunj Alokit Ho Ke Kasht Bhi Bam Ambe Mahamai
Ram Ji Ki Agya Lekar Gehbar Mein Tap Karane Aai
Bherav Nath Ko Ghar Se Nikala Mukti Ki Rah Dikhae
Jay Jay Vaishno Maiya Paar Lagao Naiyav

Leave a Reply