जा रहे हो तो जाओ ब्रज छोड़ कर सबका दिल तोड़ कर

मोह में मथुरा चल दिए छोड़ ब्रज गोकुल की गली
दो रथ की पहिया को पकड़ के राधा यूँ कहने लगी
गर मैं ऐसा जानती की प्रीत किये दुःख होये
तो नगर ढिंढोरा पीटती की प्रीत ना कार्यो कोय

जा रहे हो तो जाओ ब्रज छोड़ कर सबका दिल तोड़ कर
प्रेम ब्रिज सा कन्हैया नहीं पाओगे नहीं पाओगे
जा रहे हो तो जाओ

ये लताए कदम्ब की ये डालियाँ
तेरे बचपन की साथी हैं सांवरिया
कुञ्ज गलियां कहानी तेरी गए रही कान्हा तेरी गए रही
ऐसी गलियां कन्हैयाँ नहीं पाओगे
जा रहे हो तो जाओ

लेके ग्वालो को घर में आना तेरा
घर के छींके से माखन चुराना तेरा
स्वाद माखन का जैसा ब्रज में मिला तुझको ब्रज में मिला
स्वाद ऐसा कन्हैया नहीं पाओगे नहीं पाओगे
जा रहे हो तो जाओ

कितनी फोड़ी गगरिया पनघट पे
चीर किसके बचे श्याम प्यारे कहो
तेरे उधमों को जिसने हंस के सहा कान्हा हंस के सहा
ऐसे प्रेमी कन्हैया नहीं पाओगे नहीं पाओगे
जा रहे हो तो जाओ

प्रेम करके दीवाना बना के हमें
छोड़ जाते हो किसके सहारे कहो
तेरे मुरली के जैसे हम दीवाने हुए
ऐसी पागल कन्हैया नहीं पाओगे नहीं पाओगे
जा रहे हो तो जाओ

Mohan Mathura Chal Die Chhod Braj Gokul Ki Gali
Do Rath Ki Pahiya Ko Pakad Ke Radha Yoon Kahane Lagi
Gar Main Aisa Janati Ki Prit Kiye Duhkh Hoye
To Nagar Dhindhora Pitati Ki Prit Na Karyo Koy

Ja Rahe Ho To Jao Braj Chhod Kar Sabka Dil Tod Kar
Prem Brij Sa Kanhaiya Nahin Paoge Nahin Paoge
Ja Rahe Ho To Jao

Ye Latae Kadamb Ki Ye Daliyan
Tere Bachapan Ki Sathi Hain Sanvariya
Kunj Galiyan Kahani Teri Gae
Rahi Kanha Teri Gae Rahi
Aisi Galiyan Kanhaiyan Nahin Paoge
Ja Rahe Ho To Jao

Leke Gvalo Ko Ghar Mein Ana Tera
Ghar Ke Chhinke Se Makhan Churana Tera
Svad Makhan Ka Jaisa Braj Mein
Ila Tujhko Braj Mein Mila
Svad Aisa Kanhaiya Nahin Paoge Nahin Paoge
Ja Rahe Ho To Jao

Kitani Phodi Gagariya Panaghat Pe
Chir Kisake Bache Shyam Pyare Kaho
Tere Udhamon Ko Jisane Hans Ke
Saha Kanha Hans Ke Saha
Aise Premi Kanhaiya Nahin Paoge Nahin Paoge
Ja Rahe Ho To Jao

Prem Karake Divana Bana Ke Hamen
Chhod Jate Ho Kisake Sahare Kaho
Tere Murali Ke Jaise Ham Divane Hue
Aisi Pagal Kanhaiya Nahin Paoge Nahin Paoge
Ja Rahe Ho To Jao

Leave a Reply