जीण भवानी माँ दर पे तेरे बुला ले

जीण भवानी माँ दर पे तेरे बुला ले
बेटा रोता है अब तो गले लगाले
कैसे बताऊँ हालत मेरी कौन मुझे संभाले
जीन भवानी माँ ……………..

ऐसी भी क्या मजबूरी जो तूने मुझको दूर किया
वहां भरे तू सबकी झोलियाँ यहाँ मैं मुश्किल से हूँ जिया  
अब तो कर दे एक नज़र माँ गॉड में मुझे बिठा ले
जीन भवानी माँ ……………..

जब कहीं होती नहीं सुनाई तूने ही फिर राह दिखाई
सिंह चढ़े फिर दुर्गा बनकर भक्तों की है लाज बचाई
दानव दुश्मन थर थर कांपे जो तलवार उठा ले
जीन भवानी माँ ……………..

माफ़ करो जो भूल हुई माँ अब नहीं होता सहन मुझे
दर की सेवा में ही रखना ये दे आशीर्वाद मुझे
राजू ममता माँ की पा ले शिकवे सारे भुला ले
जीन भवानी माँ ……………..

Jeen Bhavani Maa Dar Pe Tere Bula Le
Beta Rota Hai Ab To Gale Lagale
Kaise Bataun Halat Meri Kaun Mujhe Sambhale
Jeen Bhavani Maa

Aisi Bhi Kya Majaburi Jo Tune Mujhako Dur Kiya
Vahan Bhare Tu Sabaki Jholiyan Yahan Main Mushkil Se Hun Jiya
Ab To Kar De Ek Nazar Maa God Mein Mujhe Bitha Le
Jeen Bhavani Maa

Jab Kahin Hoti Nahin Sunai Tune Hi Phir Rah Dikhai
Sinh Chadhe Phir Durga Banakar Bhakton Ki Hai Laj Bachai
Danav Dushman Thar Thar Kampe Jo Talavar Utha Le
Jeen Bhavani Maa

Maf Karo Jo Bhul Hui Maa Ab Nahin Hota Sahan Mujhe
Dar Ki Seva Mein Hi Rakhana Ye De Ashirvad Mujhe
Raju Mamata Maa Ki Pa Le Shikave Sare Bhula Le
Jeen Bhavani Maa

Leave a Reply