जीव जीवन जगत में मिला है तुझे भावना भाव भगती भजन के लिए

जीव जीवन जगत में मिला है
तुझे भावना भाव भगती भजन के लिए,
मन के मंदिर में मूरत तू एसी सजा
जैसे सजती है सजनी सजन के लिए
जीव जीवन जगत में मिला है तुझे।।

हो मगन मन लगाले लगन राम से
तैरे पानी में पत्थर उसी नाम से
हो जा तैयार तृष्णा तदन के लिए
जीव जीवन जगत में मिला है तुझे।।

खाली झोली हरी नाम से भर गई
जिनके पग रज से गोतम
पिया तर गई राम जाने वो
पग रज किधर को गई
बहुत ढूंडा था मैंने नमन के लिए
जीव जीवन जगत में मिला है तुझे।।

त्याग कर अपने अन्दर के पट खोल
के प्रेम से राधे कृष्णा हरी बोल ले
टोल ले शोंक से भी इसे टोल ले
मेरी कविता है भजनी भजन के लिए
जीव जीवन जगत में मिला है तुझे।।

Jeev Jeevan Jagat Mein Mila Hai Tujhe
Bhavana Bhav Bhakti Bhajan Ke Liye
Man Ke Mandir Mein Murat Tu Esi Saja
Jaise Sajati Hai Sajani Sajan Ke Liye
Jeev Jeevan Jagat Mein Mila Hai Tujhe

Ho Magan Man Lagale Lagan Ram Se
Taire Paani Mein Patthar Usi Naam Se
Ho Ja Taiyar Trishna Tajan Ke Liye
Jeev Jeevan Jagat Mein Mila Hai Tujhe

Khali Jholi Hari Naam Se Bhar Gayi
Jinke Pag Raj Se Gotam Piya Tar Gai
Ram Jaane Vo Pag Raj Kidhar Ko Gayi
Bahut Dhunda Tha Mainne Naman Ke Liye
Jeev Jeevan Jagat Mein Mila Hai Tujhe

Tyag Kar Apne Andar Ke Pat Khol Ke
Prem Se Radhe Krishna Hari Bol Le
Tol Le Shonk Se Bhi Ise Tol Le
Meri Kavita Hai Bhajani Bhajan Ke Liye
Jeev Jeevan Jagat Mein Mila Hai Tujhe

Leave a Reply