जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैया सबको बहुत बधाई है

जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैया,
सबको बहुत बधाई है बहुत बधाई है,
सबको बहुत बधाई है,
जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैया,
सबको बहुत बधाई है।।

मात पिता को सब समझाया,
मैं हूँ लीला करने आया,
जैसा कहूँ वैसा ही करना जगत भलाई है,
जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैया,
सबको बहुत बधाई है।।

कैसा किया है जादू कमाल,
छोटे बन गये लड्डू गोपाल,
देखो अंगूठा चूसते मोहनी सूरत बनाई है,
जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैया,
सबको बहुत बधाई है।।

बारिश पड़ रही मूसलाधार,
शेष नाग है सेवा दार,
यमुना जी की बाढ़,
ना जाने कहा समाई है,
जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैया,
सबको बहुत बधाई है।।

जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैया,
सबको बहुत बधाई है बहुत बधाई है,
सबको बहुत बधाई है,
जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैया
सबको बहुत बधाई है।।

Leave a Reply