तडपत है मन दर्श की खातिर

तडपत है मन दर्श की खातिर
श्याम मोहे तरसाओ ना
तडपत है मन दर्श की खातिर
ये सांसे कही रुक न जाए,
आओ भगवन आओ ना
तडपत है मन दर्श की खातिर।।

क्या मैं यत्न करू मोरे भगवन
दर्श तेरा कर पाऊ मैं
दर पर तेरे कब से खड़ा हु
आके दर्श दिखाओ न
तडपत है मन दर्श की खातिर।।

मोर मुकट सिर सवाली सूरत,
सोहे बंसुरिया होठो पर,
एसी छवि आँखों में वसी है,
मोहे श्याम रुलाओ न
तडपत है मन दर्श की खातिर।।

तू दाता को भाग्ये विध्याता
तू संसार का रखवाला,
अपने भगतो की तू सुनता आओ देर लगाओ ना
तडपत है मन दर्श की खातिर।।

Tadpat Hai Man Darsh Ki Khatir
Shyam Mohe Tarsao Na
Ye Saanse Kahi Ruk Na Jaaye
Aao Bhagwan Aao Nath
Tadpat Hai Man Darsh Ki Khatir

Kya Main Jatan More Bhagwan
Darash Tera Kar Pau Main
Dar Par Tere Kab Se Khada Hu
Aake Darsh Dikhao Na
Tadpat Hai Man Darsh Ki Khatir

Mor Mukut Sir Sanwali Surat
Sohe Basuriya Hotho Par
Aisi Chhavi Aankho Mein Basi Hai
Mohe Shyam Rulao Na
Tadpat Hai Man Darsh Ki Khatir

Tu Data Tu Bhagya Vidhata
Tu Sansaar Ka Rakhwala
Apne Bhakto Ki Tu Sunta
Aao Der Lagao Na
Tadpat Hai Man Darsh Ki Khatir
Shyam Mohe Tarsao Na

Tadpat Hai Man Darsh Ki Khatir
Shyam Mohe Tarsao Na
Ye Saanse Kahi Ruk Na Jaaye
Aao Bhagwan Aao Nath
Tadpat Hai Man Darsh Ki Khatir

Leave a Reply