तिरंगा ही घर घर सजा

ओ तिरंगा ही घर घर सजा
और कोई नही अब ध्वजा
वो तिरंगा ही घर घर सजा

इस में रहते है राम रहीमा
इस धरती को केहते है माँ
इस तिरंगे की हम सब प्रजा
वो तिरंगा ही घर घर सजा

रंग बंसती है बल्दानी
ये है आजादी की निशानी
जो रंगे वो ही जाने मजा
वो तिरंगा ही घर घर सजा

मनो हसन की मीठी वाणी
चुनरी अजाज़ ने रंग ली धानी
शान से गाये बाली रिज़ा
वो तिरंगा ही घर घर सजा

Tiranga Hi Ghar Ghar Saja
Aur Koi Nahi Ab Dwaja

Tiranga Hi Ghar Ghar Saja
Aur koi Nahi Ab Dwaja

Isme Rehte Hai Ram Rahima
Iss Dharti Ko Kehte Hai Maa

Iss Tirange Ki Hum Sab Praja
Tiranga Hi Ghar Ghar Saja

Rang Basanti Hai Balidani
Ye Hai Aajadi Ki Nishani

Jo Range Hai Vo Hi Jaane Maja
Tiranga Hi Ghar Ghar Saja

Mano Hasab Ki Meethi Vaani
Chunari Azaz Ne Rangli Dhaani
Shaan Se Gaye Bali Riza

Tiranga Hi Ghar Ghar Saja
Aur koi Nahi Ab Dwaja

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply